Featured

कुछ हम बदले कुछ तुम बदलो

कुछ हम बदले
कुछ तुम बदलो
संसार ये बदल जाएगा
छोटे छोटे प्रयासों से
क्रांति सा सैलाब आएगा

कवियित्री:  श्रीमती सोनिया चौहान
(सहायक मुख्य तकनीकी अधिकारी)
Continue readingकुछ हम बदले कुछ तुम बदलो

Share to:
Featured

इंतेखाब

दर्द भी शदीद है और ज़ख़्म बहुत गहरा है
कराहटों पर हमारी हुकूमत का पहरा है।………………………………………………….
हाकिम ए वक़्त तो गहरी नींद में सोया है।

डॉ. निज़ाम खान
(असिस्टेंट प्रोफेसर) … Continue readingइंतेखाब

Share to:
Featured

ग़ज़ल

चराग़ों को, मुँडेरो पे सजाया जा रहा है,
फ़िज़ा की तीरगी को, यूँ मिटाया जा रहा है।…………………………………………………….

बकलम खुद
डॉ. शगुफ़्ता नाज़
(असिस्टेंट प्रोफेसर)
अँग्रेज़ी विभाग, एम.डी.डी.एम. कॉलेज
बी.आर.अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय, मुज़फ़्फ़रपुर, बिहार। … Continue readingग़ज़ल

Share to:
Featured

किसानों का दुःख

कभी मौसम की मार झेला, तो कभी पूँजी अपनी सारी लुटाई,
किसानो की भी हो दोगुनी आय, और हो उसकी पर्याप्त कमाई।

कवि: श्री ख्याली राम चौधरी
(सहायक मुख्य तकनीकी अधिकारी)
भा.कृ.अनु.प.– राष्ट्रीय कृषि आर्थिकी एवम्
नीति अनुसंधान संस्थान (NIAP), पूसा, नई दिल्ली-12 … Continue readingकिसानों का दुःख

Share to:
Featured

जियो तू साल हज़ार

ओ मेरे लाल, तू जिओ साल हजार।
जाए तेरा दिन सुभ और रात भी हो बागो बहार।

बेशक तुम्हारी हर ख्वाहिश हो पूरी और तुझे विजय पर जय मिले हर बार।
जियो मेरे दोस्त तू साल हजार। … Continue readingजियो तू साल हज़ार

Share to: