सत्य-पत्रकारिता/Truth Journalism

कभी इज़्ज़त पे बट्टा है कभी पहचान का ख़तरा,

सहाफ़त में छुपा है हर क़दम पे जान का ख़तरा।

                                                                       ये किस की बात को रक्खें हटायें किस नज़रिए को,

                                                                   कभी नाराज़ हाकिम है कभी कप्तान का ख़तरा।

वो तपती धूप में काग़ज़ क़लम और कैमरे के संग,

भड़कती भीड़ का हमला छुपे तूफ़ान का ख़तरा।

                                                              कहीं ऐसा न हो जाए कहीं वैसा न हो जाए,

                                                                         डराये जो हर इक लम्हा उसी इमकान का ख़तरा।

अकेले हैं सहाफ़ी ही निशाने पे नहीं ऐसा,

उठाता घर भी है इनका नफ़ा नुकसान का ख़तरा।

                                                                    क़लम तलवार भी बन के डराता है अकेले में,

                                                                             वो जिसमें सच को तोलें हैं उसी मीज़ान का ख़तरा।

धकेले आज़माइश में सजीले रूप रख रख के,

धड़कता है जो पहलू में दिल-ए-नादान का ख़तरा।

                                                              क़लम बेबाक होने से कई नाराज़ होते हैं,

                                                                         इधर दरबान का पहरा उधर सुल्तान का ख़तरा।

                                                                           (सहाफ़ी-पत्रकार/मीज़ान-तराज़ू/इमकान-संभावना)

                                                                                                       (Poet: जौनी फौ़स्टर, AMU)

Share to:

Leave a Reply