अच्छा लगता है

अनन्त नीले आसमान में, स्वतंत्रता और स्वाभिमान के साथ उड़ान भरना बड़ा अच्छा लगता है।।।

रास्ता तो सभी तय करते हैं मिलों का अपनी अपनी मंजिल पाने के लिए,

पर एक साथ उड़ान भरने के बाद, जिस्म और रूह दोनो को थका देने वाला, थकान भी बड़ा अच्छा लगता है।।।

शुरुवात तो अकेले से होती है,और अंत भी अकेले ही होता है, मिलते है लोग बहुत सफर में,

पर हमसफ़र तो बस एक ही होता है।।।

अनन्त नीले आसमान में, स्वतंत्रता और स्वाभिमान के साथ उड़ान भरना बड़ा अच्छा लगता है।।।

प्रकृति तो, सिखाती है बहुत कुछ, पर इंसान तो इंसान होता है, ईश्वर की बनाई हुई रचना पर भी, प्रश्न या सवाल होता। कर्म की पूजा करो ये सीख तो देते हैं लोग,पर आपकी काबिलियत को भी, जन्म के आधार पर, तोल देते हैं लोग।।।

 मुश्किल से मुश्किल राह भी आसान हो जाती है,कोई फरिश्ता मिल जाए अगर तो हार भी जीत में बदल जाती है।शुक्रिया करना ऊपरवाले का, जो मिले जाए कोई ऐसा, जिसके साथ कठिन से कठिन उड़ान भी एक मिसाल बन जाएं।।।।

अनन्त नीले आसमान में, स्वतंत्रता और स्वाभिमान के साथ उड़ान भरना बड़ा अच्छा लगता है।।। अनन्त नीले आसमान में, स्वतंत्रता और स्वाभिमान के साथ उड़ान भरना बड़ा अच्छा लगता है।।।

 

 

 

कवियित्री: : रानी विभूषिता, नई दिल्ली.

Share to:

Leave a Reply