Posts/Blogs

Featured

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना से किसानों में मृदा-पोषक तत्वों की बढ़ती जागुरुकता

प्रेमनारायण* सोनिया चौहान** मुख्य तकनीकी अधिकारी*, सहायकमुख्य तकनीकी अधिकारी**,आईसीएआर-राष्ट्रीय कृषि अर्थशास्त्र एवं नीतिअनुसंधान संस्थान, डी.पी.एस. रोड, पूसा, नई दिल्ली -110012 

Continue readingमृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना से किसानों में मृदा-पोषक तत्वों की बढ़ती जागुरुकता

Share to:
Featured

कुछ हम बदले कुछ तुम बदलो

कुछ हम बदले
कुछ तुम बदलो
संसार ये बदल जाएगा
छोटे छोटे प्रयासों से
क्रांति सा सैलाब आएगा

कवियित्री:  श्रीमती सोनिया चौहान
(सहायक मुख्य तकनीकी अधिकारी)
Continue readingकुछ हम बदले कुछ तुम बदलो

Share to:
Featured

तेरे बगैर कहीं पर गुज़र नहीं

तेरे बगैर कहीं पर गुजर नही होता,
अकेली राह में हमसे सफ़र नही होता!!

सुनाते तब ही उसे हम भी अपने बारे में,+++

राष्ट्रीय वीररस कवि
संजय शुक्ला, कोटा राजस्थान, 9001098529 … Continue readingतेरे बगैर कहीं पर गुज़र नहीं

Share to:
Featured

इंतेखाब

दर्द भी शदीद है और ज़ख़्म बहुत गहरा है
कराहटों पर हमारी हुकूमत का पहरा है।………………………………………………….
हाकिम ए वक़्त तो गहरी नींद में सोया है।

डॉ. निज़ाम खान
(असिस्टेंट प्रोफेसर) … Continue readingइंतेखाब

Share to:
Featured

ग़ज़ल

चराग़ों को, मुँडेरो पे सजाया जा रहा है,
फ़िज़ा की तीरगी को, यूँ मिटाया जा रहा है।…………………………………………………….

बकलम खुद
डॉ. शगुफ़्ता नाज़
(असिस्टेंट प्रोफेसर)
अँग्रेज़ी विभाग, एम.डी.डी.एम. कॉलेज
बी.आर.अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय, मुज़फ़्फ़रपुर, बिहार। … Continue readingग़ज़ल

Share to:
Featured

किसानों का दुःख

कभी मौसम की मार झेला, तो कभी पूँजी अपनी सारी लुटाई,
किसानो की भी हो दोगुनी आय, और हो उसकी पर्याप्त कमाई।

कवि: श्री ख्याली राम चौधरी
(सहायक मुख्य तकनीकी अधिकारी)
भा.कृ.अनु.प.– राष्ट्रीय कृषि आर्थिकी एवम्
नीति अनुसंधान संस्थान (NIAP), पूसा, नई दिल्ली-12 … Continue readingकिसानों का दुःख

Share to:
Featured

जियो तू साल हज़ार

ओ मेरे लाल, तू जिओ साल हजार।
जाए तेरा दिन सुभ और रात भी हो बागो बहार।

बेशक तुम्हारी हर ख्वाहिश हो पूरी और तुझे विजय पर जय मिले हर बार।
जियो मेरे दोस्त तू साल हजार। … Continue readingजियो तू साल हज़ार

Share to:
Featured

हे सखी! फिर से दिन वो आते/Hey Sakhi Phir Se Din Wo Aatey

*हे सखी! फिर से दिन वो आते* हे सखी! फिर से दिन वो आते बालिका बन हम खूब इठलाते, मृग

Continue readingहे सखी! फिर से दिन वो आते/Hey Sakhi Phir Se Din Wo Aatey

Share to: